सारण: अश्विन पोर्टल के संचालन के लिए आशा कार्यकर्ताओं को किया जा रहा प्रशिक्षित

सारण: अश्विन पोर्टल के संचालन के लिए आशा कार्यकर्ताओं को किया जा रहा प्रशिक्षित
• प्रखंडस्तर पर केयर इंडिया के सहयोग से दिया जा रहा है प्रशिक्षण
• विटामिन-ए खुराक कार्यक्रम को लेकर भी दी गयी जानकारी
• अब अश्विन पोर्टल के माध्यम से आशा के राशि का होगा भुगतान
• खुद पोर्टल पर अपलोड करना होगा कार्य का विवरण

रिपोर्ट: अम्बालिका न्यूज,
छपरा (सारण): आशा कार्यकर्ताओं को अब अश्विन पोर्टल के माध्यम से अपने किए हुए कार्यों का मेहनताना खुद से अपलोड करना होगा। इस काम के मेहनताने का सारा डिटेल खुद से भरके अश्विन पोर्टल पर अपलोड कर देना है। इस तरह से अब इन लोगों को बीसीएम और प्रबंधक के ऊपर अपने वेतन के लिए आश्रित नहीं रहना होगा। जिसके कारण इनको समय से वेतन का भुगतान हो जाएगा। अश्विन पोर्टल के सफल क्रियान्यन को लेकर प्रखंड स्तर आशा कार्यकर्ताओ को प्रशिक्षण दिया जा रहा है। इस प्रशिक्षण शिविर में केयर इंडिया के द्वारा सहयोग किया जा रहा है। गड़खा सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में आशा कार्यकर्ताओं के प्रशिक्षण दिया गया। प्रशिक्षण शिविर का शुभारंभ प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी डॉ. सर्वजीत कुमार ने किया। डॉ. सर्वजीत कुमार ने बताया कि सरकार ने आशा कार्यकर्ताओं के प्रोत्साहन राशि के भुगतान के लिए ई अश्विन पोर्टल लांच किया है। जिसके माध्यम राज्य से ही आशा का प्रोत्साहन राशि का भुगतान उसके बैंक खाते में कर दिया जाएगा। जिससे आशा कार्यकर्ताओं को ससमय प्रोत्साहन राशि उपलब्ध हो सकेगा। जिससे आशा पूरे मनोभाव से अपने कार्यों का निष्पादन कर सकेंगी।

अश्विन पोर्टल पर अपलोड करना होगा कार्यों का ब्यौरा :
केयर इंडिया के प्रखंड प्रबंधक प्रशांत कुमार सिंह ने बताया कि आशा कार्यकर्ताओं के लिए जारी अश्विन पोर्टल आशा वर्कर परफारमेंस एंड इंसेंटिव पोर्टल के माध्यम से आशा अपना दावा प्रपत्र एवं अश्विन पोर्टल पर लोड करेगी। जिसके बाद वह एएनएम के पास पहुंच जाएगा, एएनएम द्वारा सत्यापन के पश्चात संबंधित प्रखंड के बीसीएम द्वारा सत्यापित किया जाएगा। जिसके बाद प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी के माध्यम से राज्य को पोर्टल के माध्यम से प्रोत्साहन राशि भुगतान के लिए भेज दिया जाएगा।

विटामिन-ए खुराक कार्यक्रम को लेकर प्रशिक्षण:
इस दौरान आशा कार्यकर्ताओ को विटामिन-ए खुराक अभियान के सफल क्रियान्वयन को लेकर भी प्रशिक्षण दिया गया। जिले में 23 से 26 दिसंबर तक विटामिन ए छमाही गहन खुराक कार्यक्रम चलाया जाएगा। इस कार्यक्रम के तहत नौ से 11 माह तथा 12 से 60 माह के बच्चों को विटामिन ए की खुराक दी जाएगी। आशा कार्यकर्ता घर-घर जाकर बच्चों को विटामिन ए की खुराक देंगी।

स्वस्थ गांव के विकास में आशा की भूमिका अहम:
जिले की आशा कार्यकर्ता स्वस्थ गांव की विकास के लिए बीमारियों से बचाव तथा स्वास्थ्यवर्धन के कार्य करती है। ग्रामीण स्वास्थ्य एवं पोषण स्वच्छता दिवस को आयोजित करने में आशा की प्रमुख भूमिका है। बच्चों को टीकाकरण के लिए केन्द्र लाना, माता तथा गर्भवती स्त्रियों को आंगनबाड़ी केन्द्र लाकर उनकी जांच करने में मदद करना। सुरक्षित मातृत्व एवं बाल मृत्यु दर कम करने के लिए संस्थागत प्रसव के लिए आशा प्रमुख प्रेरक है। वह प्रसव के समय गर्भवती महिला के साथ स्वास्थ्य संस्था में जाती है। गाँव में स्वच्छता, साफ पानी, सुरक्षित मातृत्व, बच्चों का स्वास्थ्य, परिवार कल्याण एवं पोषण आदि के बारे में जागरूकता तथा ग्रामवासियों द्वारा इसे हासिल करने में आशा की भूमिका है। यह कार्य आशा एएनएम तथा आंगनबाड़ी कार्यकर्ता के साथ मिलकर करती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*