राज्य : यूपी-बिहार को जोड़ने वाले जर्जर जयप्रभा सेतु के दो गार्डर के एक-एक फुट मुहाना टूटा, हादसे की आशंका बढ़ी,

राज्य : यूपी-बिहार को जोड़ने वाले जर्जर जयप्रभा सेतु के दो गार्डर के एक-एक फुट मुहाना टूटा, हादसे की आशंका बढ़ी,

 

– जयप्रभा सेतु कभी भी हो सकता है ध्वस्त,

– राजद नेता देवकुमार सिंह ने यूपी व बिहार सरकार से पुल की अविलंब मरम्मत कराने की मांग की

रिपोर्ट : वीरेश सिंह/कमल सिंह सेंगर, अम्बालिका न्यूज ब्यूरो,

छपरा (सारण) : यूपी-बिहार को जोड़ने वाले जर्जर जयप्रभा सेतु के दो गार्डर के एक-एक फुट मुहाना टूट गया है। जिससे इस पुल पर हादसे की प्रबल आशंका जताई जा रही है। बावजूद इसके पुल पर भारी वाहनों का भी आवागवन जारी है।
यूपी की ओर से पाया संख्या छह पर दो फुट के बजाय महज एक फुट पर ही दो गार्डर का मुहाना टिका हुआ है। जिससे कभी भी भीषण हादसा हो सकता है।
जी हां कभी भी ध्वस्त हो सकता है जयप्रभा सेतु। नदी की रेत से सेतु के निचले हिस्से का टूटा सिरा देख लोगों के रोंगटे खड़े हो रहे हैं।
राजद नेता देव कुमार सिंह ने बताया कि राष्ट्रीय राजमार्ग 19 पर मांझी के समीप स्थित लोकनायक जेपी के सपनों का सेतु जयप्रभा सेतु के पाया संख्या छह के दो गार्डर का मुहाना लगभग एक-एक फुट के व्यास में टूटकर अलग हो गया है। दोनों गार्डर का लगभग एक एक फुट का सिरा ही सेतु के पाया  पर टिका है। साथ ही यूपी की तरफ से पाया नम्बर एक और दो के बीच के गार्डर में दो स्थानों पर दरार स्पष्ट दिख रही है, जो गार्डर के टूट कर गिरने की आशंका जता रहा है। सेतु का गार्डर टूटने की खबर के बावजूद उसके ऊपर ओवरलोडेड भारी वाहनों का बेरोकटोक परिचालन बदस्तूर जारी है। टूटे गार्डर को देखने के बाद स्थानीय लोगों का मानना है कि यदि तत्काल भारी वाहनों का परिचालन बन्द नहीं किया गया, तो किसी भी क्षण यूपी-बिहार का सड़क सम्पर्क बन्द हो जाएगा। लगभग एक वर्ष से सेतु के दोनों तरफ के ग्रामीण सेतु की जर्जर स्थिति तथा एप्रोच सड़क में बने भयंकर गड्ढों को ढांपने के लिए आंदोलन चला रहे हैं। बावजूद इसके सम्बन्धित विभाग निष्क्रिय बना हुआ है।
राजद नेता देवकुमार सिंह ने यूपी और बिहार सरकार को आपस में समन्वय बनाकर जनहित में शीघ्र ही इस पुल पर बड़े वाहनों के परिचालन पर रोक लगाकर पुल की क्षतिग्रस्त हिस्से की मरम्मत का कार्य शुरू करने की मांग की है।

उधर “अनुभव जिंदगी का” नामक मांझी के सोशल मीडिया समूह के सदस्यों के पुरजोर आग्रह से प्रभावित होकर तकरीबन एक माह पूर्व सेतु के ऊपर के जर्जर हालत तथा टूटी पड़ी रेलिंग का मुद्दा भाजपा सांसद जनार्दन सिंह “सिग्रीवाल” ने लोक सभा में उठाया था। बावजूद इसके अबतक कोई ठोस करवाई नही की गई। स्थानीय लोग अपने गुस्से का इजहार करते कहते हैं। लेकिन ऐसा लग रहा है कि सरकार बड़े हादसे अथवा सेतु के ध्वस्त होने की प्रतीक्षा कर रही है।

Advt.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*