सारण : अयोध्या के सरयु घाट की तरह विकसित होगा मांझी का राम घाट : सांसद,

सारण : अयोध्या के सरयु घाट की तरह विकसित होगा मांझी का राम घाट : सांसद,

– 30 करोड़ की लागत से राम घाट का होगा निर्माण व सौंदर्यीकरण कार्य,

केंद्रीय टीम के साथ महाराजगंज सांसद सिग्रीवाल ने किया घाट का निरीक्षण,

अटल द्वार, शवदाह गृह, चेंजिंग रुम, शौचालय व संपर्क सड़क का भी होगा निर्माण,

रिपोर्ट : मनोज सिंह/कमल सिंह/वीरेश सिंह, अम्बालिका न्यूज,
छपरा/एकमा/मांझी (सारण) : बिहार और उत्तर प्रदेश की सीमा पर सरयू नदी के तट पर अवस्थित मांझी के राम घाट को यूपी के अयोध्या के सरयू घाट की तरह विकसित किया जाएगा. मांझी के राम घाट के निर्माण तथा सौंदर्यीकरण पर लगभग 30 करोड़ की धनराशि खर्च की जाएगी.


यह बात शुक्रवार को महराजगंज के भाजपा सांसद जनार्दन सिंह “सिग्रीवाल” ने भारत सरकार की केंद्रीय टीम के साथ प्रस्तावित राम घाट का स्थलीय निरीक्षण के उपरांत स्थानीय हनुमान गढ़ी मन्दिर परिसर में आयोजित पत्रकार वार्ता के क्रम में कही.


इससे पहले उन्होंने बुडको कम्पनी के सहायक अभियंता आनंद मोहन सिंह, कम्पनी के सीनियर आर्किटेक अभिषेक कुमार व सीओ दिलीप कुमार आदि के साथ स्थल निरीक्षण किया.

उन्होंने बताया कि रेलपुल (इंचकेप ब्रीज) तथा जयप्रभा सेतु के बीच नदी तल से ऊपर 18 मीटर चौड़ा तथा 400 मीटर लम्बा पक्का घाट का निर्माण किया जाएगा. घाट के बीचो बीच एक अटल स्मृति भवन का निर्माण भी किया जाएगा. घाट पर चबूतरायुक्त एक दर्जन शेड, एक दर्जन शौचालय व कपड़ा चेंजिंग रूम आदि भी बनाये जाएंगे. घाट के ऊपर फुटपाथ, पेयजल तथा पार्किंग जोन का निर्माण किया जाएगा. घाटों पर एक दर्जन हाई मास्क लाइट लगाए जाएंगे. मांझी-छपरा मुख्य मार्ग पर स्थित मांझी चट्टी तथा जयप्रभा सेतु के ओवर ब्रीज से सेतु के समानांतर राम घाट तक 20 फुट चौड़े दो सम्पर्क पथों का निर्माण किया जाएगा. मांझी चट्टी पर पूर्व प्रधानमंत्री स्व. अटल बिहारी बाजपेयी की स्मृति मेंएक अटल द्वार बनेगा.


उन्होंने बताया कि देश के लगभग पांच दर्जन घाटों में रामघाट को भी पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी जी की अस्थि विसर्जन के लिए केन्द्र सरकार द्वारा चयनित किया गया था.
इसलिए इस राम घाट का महत्व बढ़ गया है. रामघाट तथा बहोरन सिंह के टोला के समीप स्थित सैकड़ों वर्ष पुराने बरगद व पीपल के पेड़ को चबूतरा के माध्यम से संरक्षित किया जाएगा.


इसके अलावा मांझी श्मशान घाट पर एक सौ फुट चौड़ा पक्का घाट भी बनेगा तथा उक्त घाट पर शेडयुक्त चार शवदाह गृह, दो शौचालय तथा मांझी प्रखंड मुख्यालय के समीप से घाट तक 12 फुट चौड़ी पक्की सड़क तथा मोक्ष धाम के प्रवेश द्वार का निर्माण व प्रकाश की बेहतर व्यवस्था की जाएगी.


एक सवाल के जबाब में श्री सिग्रीवाल ने बताया कि डुमाईगढ़ से एकमा तथा मांझी, सोनबरसा से जैतपुर सड़क का निर्माण कार्य बरसात बाद प्रारम्भ होगा.
उक्त सड़क निर्माण के टेंडर की प्रक्रिया पूरी कर ली गई है. उन्होंने बताया कि एनएच 19 तथा जयप्रभा सेतु की मरम्मती तथा मांझी-बरौली सड़क के नवीनीकरण का शीघ्र ही शिलान्यास होगा.

इस निरीक्षण के दौरान सांसद सिग्रीवाल के साथ सन्त रामप्रिय दास के अलावा भाजपा नेता हेमनारायण सिंह, राणा प्रताप उर्फ डब्ल्यू सिंह, पूर्व जिप सदस्य पंकज सिंह, मनोज प्रसाद (सरपंच), रामायण दास, पत्रकार मनोज कुमार सिंह, बबलू शर्मा, जय किशोर सिंह, रंजन शर्मा आदि अन्य लोग मौजूद थे.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*