सांप्रदायिक सौहार्द व गंगा-जमुनी तहजीब की मिसाल है महोत्सव : वीरेंद्र नारायण यादव

कार्तिक पूर्णिमा मेला महोत्सव का मांझी में हुआ शुभारंभ

वीरेश सिंह, अम्बालिका न्यूज ब्यूरो,

माँझी ( सारण) : स्थानीय दलन सिंह हाई स्कूल माँझी के प्रांगण में कार्तिक पूर्णिमा माँझी मेला महोत्सव समारोह का उद्धाटन पूर्व विधायक बुद्धन प्रसाद यादव, विधानपरिषद सदस्य वीरेन्द्र नारायण यादव व समाजसेवी रामजीवन दानी ने संयुक्त रूप से किया।

उद्धघाटन समारोह की रात्रि में द्विदलीय गायन प्रतियोगिता यानी कि दुगोला का भी आयोजन किया गया। जिसमें रामाशंकर सिंह एवं मनोज शर्मा सूरदास जैसे उम्दा कलाकार अपने गायन कला का प्रदर्शन किया। साथ ही दूरदराज से गंगा स्नान के लिए आये श्रद्धालुओं के ठहरने से लेकर विधि व्यवस्था तक का चाक चौबंद प्रबंध किया गया।

माँझी के धार्मिक और सांस्कृतिक इतिहास को पुनर्जीवित करने और माँझी को एक उत्कृष्ट पहचान दिलाने के उद्देश्य से पिछले साल से शुरू हुआ यह कार्यक्रम अब अपने दूसरे साल में जनमानस में माँझी की परंपरा के रूप में ख्याति के शिखर की ओर अग्रसर हुआ है।

सांप्रदायिक सौहार्द व गंगा-जमुनी तहजीब की मिसाल है महोत्सव : वीरेंद्र नारायण यादव

इस महोत्सव के उद्घाटन समारोह को संबोधित करते हुए एमएलसी वीरेंद्र नारायण यादव ने कहा कि इस आयोजन की एक और खास बात यह रही है कि आने वाले दिनों में यह महोत्सव सिर्फ माँझी ही नही बल्कि पूरे बिहार और भारत में धार्मिक सद्भाव के प्रतीक के रूप में जाना जाएगा। सरयू के पावन तट पर आयोजित होने वाला यह महोत्सव गंगा जमुनी संस्कृति की मिसाल बन रही है।

इस ऐतिहासिक महोत्सव में अपनी उपस्थिति दर्ज कराकर माँझी के स्वर्णिम इतिहास के सफर के गवाह बने। मेरा पूर्ण विश्वास है कि आनेवाले समय में माँझी का यह महोत्सव सोनपुर मेले से भी बड़ा होता चला जायेगा।मेला महोत्सव समिति के संयोजक सह युवा नेता ई सौरभ शनि उर्फ पंडित ने कही।

मंच का सचालन मनोज सिंह पत्रकार ने किया।समारोह में मुख्य रूप से राजद के प्रखण्ड अध्यक्ष महेश यादव, पुर्व मुखिया देवेन्द्र सिंह, पूर्व जिला पार्षद सह भाजपा के युवा नेता पंकज सिंह, कृष्ण सिंह पहलवान, पुर्व मुखिया सत्यनारायण प्रसाद यादव, लालबाबु ,नागेन्द्र ठाकुर, राजकिशोर यादव ,विनय यादव दर्जनो लोगो ने मेला महोत्सव मे बढ चढ कर भाग लिया। मेला मे पधारे श्रद्धालुओ एव ग्रामीणों ने सांस्कृतिक कार्यक्रम का भरपूर आनन्द उठाया।

(Edited by :K. K. Singh Sengar)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*